नई सामग्री

DB

खुशी हमारे आंतरिक विचारों की स्थिति पर आधारित है - ब्र.कु. मंजू

           तनाव से स्थायी मुक्त होने का एकमात्र साधन है सकारात्मक चिंतन अपने जीवन को खुषियों से और सुख-शांति से भरपूर रखने के लिए अपनी दिनचर्या से सुबह का एक घण्टा सकारात्मकता के लिए दें। इससे हमारे बचे हुए 23 घण्टे स्वतः ही सशक्त और सफल हो जाते हैं। तनाव से मुक्त होने का साधन भी विचारों का सशक्तिकरण ही है। गुस्सा करने से हमारी कन्ट्रोलिंग पॉवर समाप्त हो जाती है। और सकारात्मक विचारों को जीवन में अमल में लाने के लिए हमें सतत अभ्यास की आवश्यकता है। यह कोई ओवरनाइट प्रोसेस नहीं है जो एक ही दिन में हर दृष्टिकोण को सकारात्मक देखने का हमारा अभ्यास हो जाये। और राजयोग मेडिटेशन का आधार ही अच्छे विचार हैं।’’ ये बातें टिकरापारा सेवाकेन्द्र में आयोजित राजयोग मेडिटेशन शिविर के पहले दिन सेवाकेन्द्र प्रभारी ब्र.कु. मंजू दीदी जी ने कही।

प्रचार